दबंगो के जुल्म से कई परिवार कर चुके हैं पलायन….

आगरा के थाना बरहन क्षेत्र के गांव खांडा में दो दबंग शराब तस्करों ने ग्रामीणों का जीना मुहाल कर रखा है। कई मुकदमों में वांछित यह आए दिन ग्रामीणों के साथ मारपीट और फर्जी मुकदमों में फंसाने की धमकी देते रहते हैं। जिसके डर से कई परिवार पलायन भी कर चुके हैं लेकिन एक सत्ताधारी नेता की छत्रछाया इनके ऊपर होने की वजह से उन पर कड़ी कार्यवाही नहीं हो पाती है।

अपने घर के सामने डर के माहौल में खड़े यह ग्रामीण गांव खांडा के निवासी हैं जिन्हें गांव के दबंग शराब माफियाओं ने परेशान कर रखा है। दरअसल पूरा मामला जिला आगरा के थाना बरहन क्षेत्र के खांडा गांव का है। निवासी मनीष और धर्मवीर शराब माफिया हैं जिन पर थाना बरहन में दर्जनभर मुकदमे दर्ज हैं। मनीष और धर्मवीर दबंग किस्म के व्यक्ति हैं इनके दबंगई से तंग आकर करीब आधा दर्जन परिवार घर छोड़कर बाहर रहने को मजबूर है। और अब इनकी दबंगई का शिकार खांडा के ही निवासी सोमबीर और पुष्पेंद्र का परिवार हुआ है। क्योंकि इन्होंने गांव में अवैध शराब बेचने का विरोध किया था।

ग्रामीण महिलाओं का कहना है कि हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि गांव की गलियों में दिन-रात शराबी शराब लेने की जुगाड़ में घूमते रहते हैं शराब पीकर लोगों से अभद्रता करते हुए नजर आते हैं जिसको लेकर ग्रामीण महिलाओं में भय का माहौल है साथ ही यह दोनों कई बार जेल भी जा चुके हैं लेकिन अवैध शराब का धंधा छोड़ने को तैयार नहीं है। जब टीम गांव में पहुंची और मामले की पड़ताल कर रही थी तभी एक युवक अवैध शराब लेने के लिए एक ग्रामीण के घर में घुसा और शराब की मांग करने लगा जब ग्रामीणों ने इसकी सूचना दी शराब खरीदने आया युवक फरार हो गया। तो वही गांव के ही समाज सेवी संस्था के सदस्य शिव मंगल ने बताया कि कई बार वे खुद संस्था की मदद से धर्मवीर और मनीष के यहां से शराब पुलिस को बरामद करवा चुके हैं लेकिन कुछ दिन बाद जेल से छूटने के बाद फिर से अवैध शराब का धंधा शुरू कर देते हैं।

ऐसा नहीं है कि इन दबंगो पर पुलिस कार्यवाही नहीं करती लेकिन हर बार पकड़े जाने के बाद एक सत्ताधारी नेता की कवायद पर यह जेल से छूट जाते हैं और फिर से अपना अवैध शराब का धंधा दबंगई के साथ शुरू कर देते हैं। इन दोनों शराब माफियाओं की दबंगई का आलम यह है कि वह एक बार थाना पुलिस की टीम पर भी हमला कर चुके हैं जिसका मुकदमा थाना बरहन में दर्ज है। अब बड़ा सवाल यह पैदा होता है कि सत्ताधारी नेता के संरक्षण में अगर यह दबंग माफिया किसी बड़ी घटना को अंजाम देते हैं तो इसका जिम्मेदार कौन होगा अब देखने वाली बात होगी कि पुलिस और प्रशासन के बड़े अधिकारी इस मामले में क्या कार्यवाही करते हैं।

Share this News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *